100 BEST SHAYARI BY ZAKIR KHAN in Hindi |

100 Best Shayaris by Zakir Khan:

Zakir Khan is known name in the stand-up comedy. He is a also a talented shayar and romantic poet which is hidden from the world, Following 20 shayris by zakir khan are the proof of he is an amazing poet and shayar also.
 

From being a college dropout to becoming one of the most popular stand-up comedians in India the journey of this sakht launda has been inspiring. 

For more zakir khan shayarizakir khan poem, zakir khan poetry folow us on social media, stay tuned with us.
 


Zakir khan shayai


मेरी जमीन  तुमसे गहरी रही है,
वक़्त आने दो, आसमान भी तुमसे ऊंचा रहेगा।



Zakir khan shayai



लूट रहे थे खजाने मां बाप की  छाव मे,
हम कुड़ियों के खातिर, घर छोड़ के आ गए।


zakir khan shayari on life


Zakir khan shayai
Zakir khan shayaris


कामयाबी तेरे लिए हमने खुद को कुछ यूं तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाजार में रख कर एश्तेहार कर लिया ।






यूं तो भूले हैं हमें लोग कई, पहले भी बहुत से 
पर तुम जितना कोई उन्मे सें , कभी याद नहीं आया।
zakir khan best shayari

 

Zakir khan shayai
Zakir khan poem

मेरे घर से दफ्तर के रास्ते में
तुम्हारी नाम की एक दुकान पढ़ती हैं
विडंबना देखो,
वहां दवाइयां मिला करती है।

 

Har ek copy ek peeche kucch na kuch khaas likha hai,
Bas iss tarah tere mere Ishq ka Itihass likha hai.
Tu Duniya me chaahe jahan bhi rahe,
Apni Diary mein maine tujhe paas likha hai..

 


Zakir khan shayai


इश्क़ को मासूम रहने दो नोटबुक के आख़री पन्ने पर
आप उसे किताबों म डाल कर मुस्किल ना कीजिए।

 

Ab koi haq se hath pakadkar mehfil mein dobara nahi baithaata.
Sitaaron ke beech se suraj banne ke kuch apne hi nuksaan hua karte hai.

 


Zakir khan shayai
Zakir khan poem


मेरी औकात मेरे सपनों से इतनी बार हारी हैं के
अब उसने बीच में बोलना ही बंद कर दिया है।


zakir khan shayari on love


Zakir khan shayai



ज़मीन पर आ गिरे जब आसमां से ख़्वाब मेरे
ज़मीन ने पूछा क्या बनने की कोशिश कर रहे थे। 

 

Zindagi se kuch zyaada nahi, bas itni si farmaaish hai.
Ab tasveer se nahi tafseel se milne ki khwaaish hai.

 


zakir khan shayari

Zakir khan shayai
Zakir khan shayaris

हर एक दस्तूर से बेवफाई मैंने शिद्दत से हैं निभाई 
रास्ते भी खुद हैं ढूंढे और मंजिल भी खुद बनाई।




Zakir khan shayai
Zakir khan shayaris

मेरी अपनी और उसकी आरज़ू में फर्क ये था 
मुझे बस वो...
और उसे सारा जमाना चाहिए था।

 


Hum dono me bas itna sa farq hai uske sabd “lekin” mere naam se shuru hote hain, aur mere saare “kaash” uss par aa kar rukte hain.

 


Zakir khan shayai



मेरे  इश्क़ से मिली है तेरे हुस्न को ये शोहरत,
तेरा ज़िक्र ही कहां था , मेरी दास्तान से पहले।



Zakir khan shayai

zakir khan shayari main shunya pe sawar hu,


गर यकीन ना हों तो बिछड़ कर देख लो
तुम मिलोगे सबसे मगर हमारी ही तलाश में।

zakir khan famous shayari

Zakir khan shayai

Zakir khan shayaris

इश्क़ किया था 
हक से किया था
सिंगल भी रहेंगे तो हक से ।

zakir khan shayari sakht launda


Zakir khan shayai

Zakir khan shayaris

जिंदगी से कुछ ज्यादा नहीं,
बस इतनी सी फर्माइश है,
अब तस्वीर से नहीं,
तफसील से मिलने की ख्वाइश है ।

zakir khan best shayari in hindi

Zakir khan shayai



ये तो परिंदों की मासूमियत है,
वरना दूसरों के घर अब आता जाता कौन हैं।



Zakir khan shayai



तुम भी कमाल करते हों ,
उम्मीदें इंसान से लगा कर
शिकवे भगवान से करते हो।


zakir khan shayari in hindi

Zakir khan shayai

Zakir khan poems

बड़ी कश्मकश में है ये जिंदगी की,
तेरा मिलना मिलना इश्क़ था या फरेब।



Zakir khan shayai



दिलों की बात करता है ज़माना,
पर आज भी मोहब्बत
चेहरे से ही शुरू होती हैं।


zakir khan shayari one sided love


Zakir khan shayai



बे वजह बेवफाओं को याद किया है,
ग़लत लोगों पे बहुत वक़्त बर्बाद किया है।



Zakir khan shayai

zakir khan shayari main shunya pe sawar hu,

माना कि तुम को भी इश्क़ का तजुर्बा काम नहीं,
हमनें भी तो बगों में हैं कई तितलियां उड़ाई।

zakir khan shayari about life

Page... 2, 3, 4


 



1 Comments:

Click here for Comments
Unknown
admin
May 29, 2021 at 10:20 AM ×

Nice

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar