Zakir Khan all time favourite Shayari collection 2021

Zakir Khan Shayari Motivational, Zakir Khan:



Zakir Khan all time favourite Shayari collection 2021


Har ek copy ke peeche, Kuch na Kuch Khaas likha hai,
Bas Is tarah tere mere Ishq ka itihaas likha hai,
Tu Duniya main chahe jahan bhi rahe,
Apni diary mei maine tujhe pass likha hai



माना की तुमको इश्क़ का तजुर्बा भी कम नहीं,
हमने भी बाग़ में हैं कई तितलियाँ उड़ाई..


कामयाबी हमने तेरे लिए खुद को यूँ तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाज़ार में रख कर इश्तेहार कर लिया..


जिंदगी से कुछ ज्यादा नहीं,
बस इतनी से फरमाइश है,
अब तस्वीर से नहीं,
तफ्सील से मलने क ख्वाइश है..


बस का इंतज़ार करते हुए,
मेट्रो में खड़े खड़े
रिक्शा में बैठे हुए
गहरे शुन्य में क्या देखते रहते हो?
गुम्म सा चेहरा लिए क्या सोचते हो?
क्या खोया और क्या पाया का हिसाब नहीं लगा पाए न इस बार भी?
घर नहीं जा पाए न इस बार भी?


हम दोनों में बस इतना सा फर्क है,
उसके सब “लेकिन” मेरे नाम से शुरू होते है
और मेरे सारे “काश” उस पर आ कर रुकते है..


उसे मैं क्या, मेरा खुमार भी मिले तो बेरहमी से तोड़ देती है,
वो ख्वाब में आती है मेरे, फिर आकर मुझे छोड़ देती है….


इश्क़ को मासूम रहने दो नोटबुक के आखिरी पन्ने पर,
आप उसे किताबो में डालकर मुश्किल न कीजिये..


अब वो आग नहीं रही, न शोलो जैसा दहकता हूँ,
रंग भी सब के जैसा है, सबसे ही तो महेकता हूँ…
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,
तूफ़ान से भी ज्यादा साहिल से डरता हूँ…


Ab Wo Aag Nahi Rahi, Na Sholo Jaisa Dehekta Hoon,
Rang Bhi Sab Ke Jaisa Hai, Sabsa Hi To Mehekta Hoon…
Ek Arse Se Hoon Thhame Kashti Ko Bhavar Mein,
Toofaan Se Bhi Jyada Saahil Se Darta Hoon…
Previous
Next Post »

Search This Blog