'Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya' poem by Kanha Kamboj

About This poem:- This beautiful Poem 'Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya' written by Kanha Kamboj 


'Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya' poem by Kanha Kamboj



Yaar Usne Mujhe Bahut Rulaya

तू जरूरी है हर जरूरत को आजमाने के बाद
तू चलाना मर्जी अपनी मेरे मर जाने के बाद 
है सितम ये भी कि हम उसे चाहते हैं
वो भी इतना सितम ढाने के बाद 

हो इजाजत तो तुझे छूकर देखूं
सुना है मरते नहीं तुझे हाथ लगाने के बाद 
वो रास्ते में मिली तो मुस्कुरा दिया देखकर
बहुत रोया मगर घर जाने के बाद
है तौहीन मेरी जो तुम कर रही हो
आवाज उठाई नहीं जाती सर झुकाने के बाद

कितनी पागल है मुझे मेरे नाम से पुकार लिया 
मुझे पहचानने से मुकर जाने के बाद
मुझसे मिलने आओगी ये वादा करो
मुलाकात रकीब से हो जाने के बाद
वैसे हो बड़े बदतमीज तुम कान्हा
किसी ने कहा अपनी हद से गुजर जाने के बाद

तेरी हर हकीकत से रूबरू हो गया हूं मैं
ये पर्दा किस बात का कर रही हैं
एक मैं हूं आंखों से आंसू नहीं रुक रहे 
एक तू है कि हंस के बात कर रही है 
लहजे में मुआफ़ी, आँखों में शर्म तक नहीं 
ये एक्टिंग का कोर्स तू लाजवाब कर रही है

सारी रात उसे छूने से डरता रहा
मैं बेबस, बेचैन बस करवटें बदलता रहा 
हाथ तो मेरा ही था उसके हाथ में
बस बात ये है कि जिक्र किसी और करता रहा

गिरा ले मुझे अपनी नजरों से कितना ही 
झुकने पर तो मजबूर मैं तुझे भी कर दूंगा 
एक बार बदनाम करके तो देख मुझे महफ़िल में
कसम से शहर में मशहूर मैं तुझे भी कर दूंगा

कहती है तुमसे ज्यादा प्यार करता है 
उसकी इतनी औकात है क्या?
रकीब का सहारा लेकर कान्हा को बुला दूंगी 
तेरा दिमाग खराब है क्या?

                                            – Kanha Kamboj



yaar usnai mujhai bahut rulaya

too jarooree hai har jaroorat ko aajamaane ke baad
too chalaana marjee apanee mere mar jaane ke baad 
hai sitam ye bhee ki ham use chaahate hain
vo bhee itana sitam dhaane ke baad 

ho ijaajat to tujhe chhookar dekhoon
suna hai marate nahin tujhe haath lagaane ke baad 
vo raaste mein milee to muskura diya dekhakar
bahut roya magar ghar jaane ke baad
hai tauheen meree jo tum kar rahee ho
aavaaj uthaee nahin jaatee sar jhukaane ke baad

kitanee paagal hai mujhe mere naam se pukaar liya 
mujhe pahachaanane se mukar jaane ke baad
mujhase milane aaogee ye vaada karo
mulaakaat rakeeb se ho jaane ke baad
vaise ho bade badatameej tum kaanha
kisee ne kaha apanee had se gujar jaane ke baad

teree har hakeekat se roobaroo ho gaya hoon main
ye parda kis baat ka kar rahee hain
ek main hoon aankhon se aansoo nahin ruk rahe 
ek too hai ki hans ke baat kar rahee hai 
lahaje mein muaafee, aankhon mein sharm tak nahin 
ye ekting ka kors too laajavaab kar rahee hai

saaree raat use chhoone se darata raha
main bebas, bechain bas karavaten badalata raha 
haath to mera hee tha usake haath mein
bas baat ye hai ki jikr kisee aur karata raha

gira le mujhe apanee najaron se kitana hee 
jhukane par to majaboor main tujhe bhee kar doonga 
ek baar badanaam karake to dekh mujhe mahafil mein
kasam se shahar mein mashahoor main tujhe bhee kar doonga

kahatee hai tumase jyaada pyaar karata hai 
usakee itanee aukaat hai kya?
rakeeb ka sahaara lekar kaanha ko bula doongee 
tera dimaag kharaab hai kya?

                                            – kanh kamboj

Previous
Next Post »

Search This Blog