Wahi Tumhari Thhodi Ka Til beautiful poem by Dr. Kumar Vishwas lyrics

Wahi Tumhari Thhodi Ka Til beautiful poem by Dr. Kumar Vishwas:



भाषण देने कभी गया था ,
मथुरा के कोई कॉलिज में ,
रस्ते भर खाने के पैसे बचा लिए थे
और ख़रीदे थे जो मैंने ,
जन्मभूमि वाले मंदिर से ,
मुझे देख जो मुस्काते थे ,
नटखट शोख़ इशारे कर के , 
तुम्हे देख जो शरमाते थे ,
सहज रास आखोँ में भर के,
आले में चुपचाप अधर पर वेणु टिकाये ,
अभी तलक़ क्या ,

वो छलिया घनश्याम रखे हैं....?
बच्चों के क्या नाम रखे हैं.......?
आँसू की बारिश में भीगे ,
ठोड़ी के जिस तिल को मैंने ,
विदा-समय पर चूम लिया था 
और कहा था 'मन मत हारो ' ,
तुम से अनगाया गाया है , 
तुमको खो कर पर भी पाया है ,
चाहे मैं दुनिया भर घूमूँ , 
धरती भोगूँ , अम्बर चूमूँ ,
इस तिल को दर्पण में जब भी कभी देखना,
यही समझना ,

ठोड़ी पर यह तिल थोड़ी है ,
जग-भर की नज़रों से ओझल ,
मेरी भटकन रखी हुई है ,
मेरे चारों धाम रखे हैं ,
सच बतलाओ नए प्रसाधन के लेपन में, 
चेहरे की चमकीली परतों ,
के ऊपर भी जिसमे तुमको 'मैं' दिखता था , गोरे मुखड़े वाली,
चाँदी की थाली में अबतक भी क्या मेरे शालिग्राम रखे हैं ?
बच्चों के क्या नाम रखे हैं.......?
सरस्वती पूजन वाले दिन ,


Also Read: Ladke Bhi Haarte Hai Ishq Mein Hindi Poem By Jai Ojha 

 

मेरा जन्म-दिवस भी है जो ,
बाँधी थी जो रंग-बसन्ती वाली साड़ी ,
फाल ढूंढ़ने को जिस का मैं ,
तीन-तीन बाज़ारों तक़ खुद ,
दौड़-दौड़ कर फ़ैल गया था , 
बी. एड. की गाईड हो या हो 
लव-स्टोरी की वी.सी.डी. ,

मौसी के घर तक़ जाने को ,
सीट घेरनी हो जयपुर की बस में चाहे ,
ऐसे सारे गैर-ज़रूरी काम ,
ज़रूरी हो जाते थे, 
एक तुम्हारे कहने भर से ,
अब जिस के संग निभा रही हो ,
हँस-हँस कर अनमोल जवानी ,
उस अनजाने उस अनदेखे ,
भाग्यबली के हित भी तुमने ,
ऐसे ही क्या गैर-ज़रूरी काम रखे हैं ...?
बच्चों के क्या नाम रखे हैं.......?

                – Kumar Vishwas


Wahi tumhari thhodi ka til


bhaashan dene kabhee gaya tha ,
mathura ke koee kolij mein ,
raste bhar khaane ke paise bacha lie the
aur khareede the jo mainne ,
janmabhoomi vaale mandir se ,
mujhe dekh jo muskaate the ,
natakhat shokh ishaare kar ke , 
tumhe dekh jo sharamaate the ,
sahaj raas aakhon mein bhar ke,
aale mein chupachaap adhar par venu tikaaye ,
abhee talaq kya ,

vo chhaliya ghanashyaam rakhe hain....?
bachchon ke kya naam rakhe hain.......?
aansoo kee baarish mein bheege ,
thodee ke jis til ko mainne ,
vida-samay par choom liya tha 
aur kaha tha man mat haaro  ,
tum se anagaaya gaaya hai , 
tumako kho kar par bhee paaya hai ,
chaahe main duniya bhar ghoomoon , 
dharatee bhogoon , ambar choomoon ,
is til ko darpan mein jab bhee kabhee dekhana,

yahee samajhana ,
thodee par yah til thodee hai ,
jag-bhar kee nazaron se ojhal ,
meree bhatakan rakhee huee hai ,
mere chaaron dhaam rakhe hain ,
sach batalao nae prasaadhan ke lepan mein, 
chehare kee chamakeelee paraton ,
ke oopar bhee jisame tumako main dikhata tha , gore mukhade vaalee,
chaandee kee thaalee mein abatak bhee kya mere shaaligraam rakhe hain ?
bachchon ke kya naam rakhe hain.......?
sarasvatee poojan vaale din , 

mera janm-divas bhee hai jo ,
baandhee thee jo rang-basantee vaalee sari ,
phaal dhoondhane ko jis ka main ,
teen-teen baazaaron taq khud ,
daud-daud kar fail gaya tha , 
bee. ed. kee gaeed ho ya ho 
lav-storee kee vee.see.dee. ,
mausee ke ghar taq jaane ko ,
seet gheranee ho jayapur kee bas mein chaahe ,
aise saare gair-zarooree kaam ,

zarooree ho jaate the, 
ek tumhaare kahane bhar se ,
ab jis ke sang nibha rahee ho ,
hans-hans kar anamol javaanee ,
us anajaane us anadekhe ,
bhaagyabalee ke hit bhee tumane ,
aise hee kya gair-zarooree kaam rakhe hain ...?
bachchon ke kya naam rakhe hain.......?

                – kumar vishwas


Previous
Next Post »

Search This Blog