Amandeep Singh poem lyrics | Ek ladki he jo mujhe mujhse jyada janti hai

Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai Lyrics- Amandeep Singh Poem lyrics In Hindi: - Today we are sharing Amandeep Singh's Love Story Poem Ek Ladki He Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai Lyrics.

His real passion is storytelling, regular open mics and groups like the Bhubaneshwar Poetry Club give him a lot of hope to achieve his passion.

 Amandeep Singh Poem In Hindi
Amandeep Singh Poem lyrics


Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai :


जो लब्‍ज जुबा तक नहीं आते मेरे,

वो उन्‍हें भी पहचानती है।

एक लड़की है जो मुझे मुझसे ज्‍यादा जानती है।

Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai




सूझ-बूझ में  मुझसे आगे है।

वो थम जाती है जब दुनिया भागे है।

मसरूफ रहती है न जाने किस गाँव में त्‍यौहारों में,

पायल पहनती है वो अपने पावों में।

मेरी कहानियों को बड़े इतमिनान से सुनती है।

मेरे शब्‍दों पर पलकें रख शायद वो भी  ख्‍वाब बुनती है कुछ।

कुछ छिपाता हूं उसे न जाने कैसे जान जानती है हर बार,

हर बार मेरा मखौटा हटा कर मेरी सच्‍चाई पहचान जाती है।

उसे रास्‍तों की परवाह नहीं है वो खुद को लहर मानती है,

एक लड़की है जो मुझे मुझसे ज्‍यादा जानती है।



(Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai poem By Amandeep Singh Lyrics In Hindi )




मै न सुनूँ तो गुस्‍से में आती है।

मै सुन लूं तो मुस्‍कुराती है,

मै उदास हूं तो समझाती है,

मै चुप हूं तो सहलाती है।

मै खफा हूं तो न ही मुझे मनाती है।

मेरी नाकामियों पर अपना हक जताती है।

थोड़ी बेसुरी है, पर गाकर सुनाती है,

मै परेशान न करूँ तो परेशान हो जाती है।

इतनी तिलिस्‍मानी होकर भी मुझे वो अपना दोस्‍त मानती है।

एक लड़की है जो मुझे मुझसे ज्‍यादा जानती है।





Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai




हां, हां मैं उससे मजाक बेहद करता हूं।

पर उसे खोने से डरता हूं।

उसकी नापसंद भी मुझे पसंद है।

उसकी आवारगी में मेरी आजादी बंद है।

मै शब्‍द रखता हूं वो जस्‍बात उठाती है।

मै शब्‍द रखता हूं वो जस्‍बात उठाती है,

मेरे कोरे कागजों पर किसी कविता सी उतर जाती है।

पर पूरी कविता में भी वो कहाँ खरी उतरती है

रोज-रोज भला जन्‍नत से कहाँ ऐसे परी उतरती है।

मै उम्‍मीद न तोड़ दूं इसलिए मेरा हाथ थामती है।

मुझसे ज्‍यादा मेरे सपनों को वो हकीकत मानती है।

उसे रास्‍तों की परवाह नहीं है, वो खुद को लहर मानती है,

एक लड़की है जो मुझे मुझसे ज्‍यादा जानती है।

Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai





Mushkurate Raho By Amandeep Singh Lyrics In Hindi 

हर शाम की तरह उस शाम भी मन मचल रहा था

और मै बिस्तर पर करवटे बदल रहा था आँख लगी ही थी

कि मुझे लगा जैसे दरवाजे पर दस्तक हुई मैंने दरवाजा खोला

दुपट्टा गुलाबी,आँखे शराबी,बाल रेशमी,मिजाज नवाबी,क्या हुस्न था

उसने बताया कि मेरे एक कमरे के इस तरफ वाले खाली कमरे में वो रहने आयी थी



कत्लेआम हुआ उसकी नजरो से मेरा कोई छुरी या चाकू नहीं

दोस्तों लगा इस कमरे की किस्मत की तरह मेरी जिन्दगी अधूरी नहीं फिर क्या था

बाते हुई, मुलाकाते हुई जिनका ज़िक्र नहीं होता वो ऐसी भी राते हुई

साथ सड़क पर गाड़िया वाले तरफ मै चलता था

उसकी हर मुस्कराहट पर दिल मचलता था

एक दिन न जाने क्यू उसने मुझसे कहा कि हमारे बीच अब वो बात  नहीं

मुझे यही समझ में नहीं आया कि हमारे बीच जगह कहाँ थी

मैंने लाख समझाया पर वो मानी नहीं मेरे लिए उसके बिना कोई कहानी नहीं

एक  पल मे चली गई वो मुझे छोड़ कर वो राते, वो बिस्तर, वो करवटे वापिस मुझ तक मोड़ कर




Mushkurate raho by Amandeep Singh lyrichs in hindi 



हर शाम की तरह उस शाम मन मचल रहा था मै बिस्तर पर करवटे बदल रहा था

आँख लगी ही थी कि मुझे लगा जैसे दरवाजे पर दस्तक हुई

क्या मैंने आप लोगों को  बताया था कि मै भूल गया था कि मेरे इस तरफ वाला कमरा भी खाली था



मैंने दरवाज़ा खोला इस बार, इस बार दुपट्टा नीला, मिजाज शर्मीला, जैसे कोई कमाल क्या हुस्न, क्या हाल

फिर कत्लेआम हुआ उसकी नजरो से मेरा कोई चाकू या छुरी नहीं

दोस्तों मुस्कुराते रहो ज़िंदगी इतनी भी बुरी नहीं

तो बात ऐसी है घर जैसी है कभी- कभी थोड़ी ज्यादा पी लेता हू

ज़िंदगी हद से ज्यादा जी लेता हू

उस रोज माँ ने कहा था बाबा घर देर से आयेगे तो हमने भी सोचा जाम पर जाम लगायेगे

तो  स्मॉल मिलाता गया लार्ज बनाता गया




Amandeep Singh Poem In Hindi



आठ पैक पेट के अन्दर गए दो मेज पर तैयार किये गिन कर पूरे 10 तक हुये

इतने में दरवाजे पर दस्तक हुई मैंने दरवाज़ा खोला सामने बाबा खड़े थे

और मै उनकी नजरो में खड़ा न हो सका उनका बताना डाटना ,समझाना ,चताना

हर एक चेहरा मेरी आँखों से होकर गुज़रा

और वो बिना  कुछ बोले मेरे यहाँ से होकर गुज़रे दिन, सप्ताह, महीने हमारी बाते बंद थी

न वो कुछ कहते और न मेरी हिम्मत थी अपने ही घर में कभी इतना न अकेला लगा था

बाबा की पुरानी कमीज पहनकर कभी इतना पराया न दिखा था

घड़ी की टिक टिक ने हर सेकंड मर डाला रोज बजते रहे नौ दस  ग्यारह बारह बारह बारह बारह

जैसे लगा दरवाजे पर दस्तक हुई मैंने दरवाजा खोला सामने बाबा खड़े हुए थे




Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai



क्या मैंने आपको लोगों को बताया कि मै भूल गया था कि उस मेरा जन्मदिन था

बाबा मुस्कुराकर बोले कि लो बेटा तुम हो गए 21

पीछे से एक बोतल निकालकर वो थी ग्लैंफिन्तेज़ कहा साथ सुबह तक बैठ कर जाम लगायेगे

एक दूसरे को किसी तीसरे की कहानिया सुनायेगे उस रात लगा जैसे रात पूरी रही

दोस्तों मुस्कुराते रहो ज़िंदगी इतनी भी बुरी नहीं

कुछ गिने चुने से साल है जो है यही हाल है

थोड़े रिश्ते है ज्यादा वादे है कुछ पुरे है कुछ आधे है चार दोस्त है अनेक इरादे है

ज़िंदगी हार जीत से आगे है जो बाते अधूरी है अधूरी सही

दोस्तों मुस्कुराते रहो ज़िंदगी इतनी भी बुरी नहीं !!








Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai Lyrics




Jo lab‍ja juba tak nahin aate mere,

Vo un‍hen bhee pahachaanatee hai.

Ek ladakee hai jo mujhe mujhase j‍yaada jaanatee hai.

aik ladki hi jo mujhai, mujhsai jyad janti hai

soojh-boojh mein  mujhase aage hai.



Vo tham jaatee hai jab duniya bhaage hai.

Masarooph rahatee hai na jaane kis gaanv mein t‍yauhaaron mein,

Paayal pahanatee hai vo apane paavon mein.

Meree kahaaniyon ko bade itaminaan se sunatee hai.

mere shab‍don par palaken rakh shaayad vo bhee  kh‍vaab bunatee hai kuchh.

kuchh chhipaata hoon use na jaane kaise jaan jaanatee hai har baar,

har baar mera makhauta hata kar meree sach‍chaee pahachaan jaatee hai.

use raas‍ton kee paravaah nahin hai vo khud ko lahar maanatee hai,

Ek ladakee hai jo mujhe mujhase j‍yaada jaanatee hai.


Amandeep Singh Poem In Hindi 



Ek ladki hi jo mujhai, mujhsai jyad janti hai

mai na sunoon to gus‍se mein aatee hai.

mai sun loon to mus‍kuraatee hai,

mai udaas hoon to samajhaatee hai,

mai chup hoon to sahalaatee hai.

mai khapha hoon to na hee mujhe manaatee hai.

meree naakaamiyon par apana hak jataatee hai.

thodee besuree hai, par gaakar sunaatee hai,

mai pareshaan na karoon to pareshaan ho jaatee hai.

itanee tilis‍maanee hokar bhee mujhe vo apana dos‍ta maanatee hai.

ek ladakee hai jo mujhe mujhase j‍yaada jaanatee hai.



haan, haan main usase majaak behad karata hoon.

par use khone se darata hoon.

usakee naapasand bhee mujhe pasand hai.

usakee aavaaragee mein meree aajaadee band hai.

mai shab‍da rakhata hoon vo jas‍baat uthaatee hai.

mai shab‍da rakhata hoon vo jas‍baat uthaatee hai,

mere kore kaagajon par kisee kavita see utar jaatee hai.

par pooree kavita mein bhee vo kahaan kharee utaratee hai

roj-roj bhala jan‍nat se kahaan aise paree utaratee hai.

mai um‍meed na tod doon isalie mera haath thaamatee hai.

mujhase j‍yaada mere sapanon ko vo hakeekat maanatee hai.

use raas‍ton kee paravaah nahin hai, vo khud ko lahar maanatee hai,

ek ladakee hai jo mujhe mujhase j‍yaada jaanatee hai.





Mushkurate raho by Amandeep Singh lyrichs in hindi 




har shaam kee tarah us shaam bhee man machal raha tha

aur mai bistar par karavate badal raha tha aankh lagee hee thee

ki mujhe laga jaise daravaaje par dastak huee mainne daravaaja khola

dupatta gulaabee,aankhe sharaabee,baal reshamee,mijaaj navaabee,kya husn tha

usane bataaya ki mere ek kamare ke is taraph vaale khaalee kamare mein vo rahane aayee thee


Amandeep Singh Poem In Hindi



katleaam hua usakee najaro se mera koee chhuree ya chaakoo nahin

doston laga is kamare kee kismat kee tarah meree jindagee adhooree nahin phir kya tha

baate huee, mulaakaate huee jinaka zikr nahin hota vo aisee bhee raate huee

saath sadak par gaadiya vaale taraph mai chalata tha

usakee har muskaraahat par dil machalata tha

ek din na jaane kyoo usane mujhase kaha ki hamaare beech ab vo baat  nahin

mujhe yahee samajh mein nahin aaya ki hamaare beech jagah kahaan thee

mainne laakh samajhaaya par vo maanee nahin mere lie usake bina koee kahaanee nahin

ek  pal me chalee gaee vo mujhe chhod kar vo raate, vo bistar, vo karavate vaapis mujh tak mod kar

har shaam kee tarah us shaam man machal raha tha mai bistar par karavate badal raha tha

aankh lagee hee thee ki mujhe laga jaise daravaaje par dastak huee

kya mainne aap logon ko  bataaya tha ki mai bhool gaya tha ki mere is taraph vaala kamara bhee khaalee tha



mainne daravaaza khola is baar, is baar dupatta neela, mijaaj sharmeela, jaise koee kamaal kya husn, kya haal

phir katleaam hua usakee najaro se mera koee chaakoo ya chhuree nahin

doston muskuraate raho zindagee itanee bhee buree nahin

to baat aisee hai ghar jaisee hai kabhee- kabhee thodee jyaada pee leta hoo

zindagee had se jyaada jee leta hoo



us roj maan ne kaha tha baaba ghar der se aayege to hamane bhee socha jaam par jaam lagaayege

to smaal milaata gaya laarj banaata gaya

aath paik pet ke andar gae do mej par taiyaar kiye gin kar poore 10 tak huye

itane mein daravaaje par dastak huee mainne daravaaza khola saamane baaba khade the

aur mai unakee najaro mein khada na ho saka unaka bataana daatana ,samajhaana ,chataana

har ek chehara meree aankhon se hokar guzara




aur vo bina  kuchh bole mere yahaan se hokar guzare din, saptaah, maheene hamaaree baate band thee

na vo kuchh kahate aur na meree himmat thee apane hee ghar mein kabhee itana na akela laga tha

baaba kee puraanee kameej pahanakar kabhee itana paraaya na dikha tha

ghadee kee tik tik ne har sekand mar daala roj bajate rahe nau das  gyaarah baarah baarah baarah baarah

jaise laga daravaaje par dastak huee mainne daravaaja khola saamane baaba khade hue the




Amandeep Singh Poem



kya mainne aapako logon ko bataaya ki mai bhool gaya tha ki us mera janmadin tha

baaba muskuraakar bole ki lo beta tum ho gae 21

peechhe se ek botal nikaalakar vo thee glaimphintez kaha saath subah tak baith kar jaam lagaayege

ek doosare ko kisee teesare kee kahaaniya sunaayege us raat laga jaise raat pooree rahee

doston muskuraate raho zindagee itanee bhee buree nahin

kuchh gine chune se saal hai jo hai yahee haal hai

thode rishte hai jyaada vaade hai kuchh pure hai kuchh aadhe hai chaar dost hai anek iraade hai

Zindagee haar jeet se aage hai jo baate adhooree hai adhooree sahee

doston muskuraate raho zindagee itanee bhee buree nahin !!


(Ek Ladki Hi Jo Mujhe, Mujhse Jyada Janti Hai poem By Amandeep Singh Lyrics In Hindi )







 Amandeep Singh Poem In Hindi
Amandeep Singh Poem lyrics
Previous
Next Post »

Search This Blog