100 Best Rahat Indori Shayari in hindi | this shayari won many hearts

Here is Collection of Rahat Indori shayari in hindi his 100 most popular poetry of all time.

Dr. Rahat Indori is one of the best poet, shayar and Hindi film lyricist . His lyrics has been utilized in quite 13 Bollywood movies till date, including the blockbuster Munnabhai MBBS. He is a globally known figure of Mushaira 

Rahat Indori Sahab is well known personality in poems and shayaris, He was a Urdu Literature at Indore University. He was quite popular his students in the university. 

Rahat Indori shayari in hindi


Dr. Rahat Indori written his first poetry at the age of 19 in his college. He is one among those urdu poets who writes poetry in simple and lucid language and his couplets have won many hearts. He has been acknowledged with many honors across globe for his work. It’s difficult to present his masterpieces in one space, still we have tried to present you Collection of Rahat Indori shayari in hindi  his 100 most popular poetry of all time.

Rahat Indori shayari in hindi :


Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

*****

Rahat Indori  Shayari  images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


Loo Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,
Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,
Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,
Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।


Rahat Indori  Shayari In Hindi


Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


Haath Khali Hain Tere Shahar Se Jate Jate,
Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jate,
Ab Toh Har Haath Ka Patthar Humein Pehchanta Hai,
Umr Gujri Hai Tere Shahar Mein Aate Jate.

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।


*****


Ajeeb   Log  Hain Meri Talash Mein Mujhko,
Wahan Par Dhoondh Rahe Hain Jahan Nahi Hun Main,
Main Aayino Se Toh Mayoos Laut Aaya Hun,
Magar Kisi Ne Bataya Bahut Haseen Hun Main.

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।



Rahat Indori  Shayari In Hindi love



Lave deeyon ki hawa mein uchhalte rahna
Gulo ke rang pe tezab daalte rahna
Mein noor ban ke jamaane mein fel jaaunga
Tum aaftaab mein keede nikalte rahna

लवे दीयों की हवा में उछालते रहना
गुलो के रंग पे तेजाब डालते रहना
में नूर बन के ज़माने में फ़ैल जाऊँगा
तुम आफताब में कीड़े निकालते रहना


*****


Safar ki had hain waha tak ki kuch nishaan rahe
Chale chalon ki jaha tak ye aasaman rahe
Ye kya uthaaye kadam aur aa gayi manjil
Maza to tab hain ke paeron mein kuch thakaan rahe

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान  रहे
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे


Rahat Indori  Shayari In Hindi lyrics


Jaa ke koi kah de, sholon se chingaari se
Phool is bar khile hain badi taeyari se
Baadshaahon se bhi feke hue sikke na liye
Humne khaeraat bhi maangi hain to khuddari se

जा के कोई कह दे, शोलों से चिंगारी से
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तैयारी से
बादशाहों से भी फेके हुए सिक्के ना लिए
हमने खैरात भी मांगी है तो खुद्दारी से


*****


Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun,
Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun,
Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya,
Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun.

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,
फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।


*****


Rahat Indori  Shayari  images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images



Roj Taaron Ki Numaaish Mein Khalal Padta Hai,
Chand Pagal Hai Andhere Mein Nikal Padta Hai,
Roj Patthar Ki Himayat Mein Ghazal Likhte Hain,
Roj Sheeshon Se Koi Kaam Nikal Padta Hai.

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,
रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।


Rahat Indori  Shayari In HIndi love



Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,
Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,
Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,
Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

*****

Haath Khali Hain Tere Shehar Se Jaate-Jaate,
Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jaate,
Ab Toh Har Haath Ka Pathar Humein Pehchanta Hai,
Umar Gujri Hai Tere Shehar Mein Aate Jaate.

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते।


*****


Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,
Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,
Main Woh Dariya Hun Ke Har Boond Bhanwar Hai Jiski,
Tumne Achha Hi Kiya Hai Mujhse Kinaara Karke.

तेरी हर बात मोहब्बत में गँवारा करके,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके,
मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।



Rahat Indori  Shayari images collection



Aankhon Mein Pani Rakho Hontho Pe Chingari Rakho,
Zinda Rahna Hai Toh Tarkeebein Bahut Saari Rakho,
Ek Hi Nadi Ke Hain Yeh Do Kinare Dosto,
Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho.

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो,
एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।



*****


Maza Chakha Ke Hi Maana Huun Main Bhi Duniya Ko
Samajh Rahi Thi Ki Aise Hi Chhoḍ Dunga Use

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे


*****


Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।


Rahat Indori  Shayari In HIndi love collection



Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,
Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,
Main Woh Dariya Hun Ke Har Boond Bhanwar Hai Jiski,
Tumne Achha Hi Kiya Hai Mujhse Kinaara Karke.

तेरी हर बात मोहब्बत में गँवारा करके,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके,
मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।


*****


Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega
Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega
Chor uchkkon ki karo kadr, ki maloom nahi
Kaun, kab, kon si sarkaar me aa jayega

बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा
चोर उचक्कों की करो कद्र, की मालूम नहीं
कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जाएगा



Dr. Rahat Indori best shayari collection



Faisla jo kuch bhi ho, hume manjoor hona chahiye
Jung ho ya ishq ho, Bharpur hona chahiye
Bhoolna bhi hai, jaroori yaad rakhne ke liye
Paas rahna hai, to thoda door hona chahiye

फैसला जो कुछ भी हो, हमें मंजूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क हो, भरपूर होना चाहिए
भूलना भी हैं, जरुरी याद रखने के लिए
पास रहना है, तो थोडा दूर होना चाहिए



*****



Rahat Indori  Shayari  images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।
~ Rahat Indori


*****


Juba to khol, nazar to mila, jawaab to de
Mein kitni baar luta hun, mujhe to hisaab to de
Tere badan ki likhawat mein hain utaar chadhav
Mein tujhko kaise padhunga, mujhe kitaab to de

जुबा तो खोल, नज़र तो मिला,जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हु, मुझे हिसाब तो दे
तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे
~ Rahat Indori



Rahat Indori  Shayari In HIndi love


Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyo hain
Itna darte hain to ghar se nikalte kyo hain
Mod hota hain jawani ka sambhalne ke liye
Aur sab log yahi aake fisalte kyo hain

लोग हर मोड़ पे रुक रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं
मोड़ होता हैं जवानी का संभलने के लिए
और सब लोग यही आके फिसलते क्यों हैं


*****

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.



Dr. Rahat Indori shayari


बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए
~ Rahat Indori

*****


हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।
~ Rahat Indori

*****

कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है
~ Rahat Indori


*****


उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा धीरे चलो
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं





बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ



*****

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए



Rahat Indori  Shayari In urdu



Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


मुझसे पहले वो किसी और की थी, मगर कुछ शायराना चाहिये था,
चलो माना ये छोटी बात है, पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिये था|


*****


फूंक डालुंगा मैं किसी रोज दिल की दुनिया
ये तेरा खत तो नहीं है जो जला ना सकूं


*****


किसने दस्तक दी ये दिल पर
कौन है आप तो अंदर है, ये बाहर कौन है.


Rahat Indori  Shayari on politics



Rahat Indori  Shayari on politics
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


यहां दरिया पे पाबंदी नहीं है,
मगर पहरे लबों पे लग रहे हैं.
सरहदों पर तनाव है क्या
जरा पता तो करो चुनाव हैं क्या


*****

Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


मैंने अपनी आँखों से लहू छलका दिया
एक समन्दर कह रहा है मुझे पानी चाहिए


*****

इरादा था कि में कुछ देर तुफानो का मजा लेता
मगर बेचारे दरिया को उतर जाने की जल्दी थी


*****


Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images




अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे



*****


मेरी ख्वाहिश है कि आंगन में न दीवार उठे
मेरे भाई, मेरे हिस्से की जमीं तू रख ले
कभी दिमाग, कभी दिल, कभी नजर में रहो
ये सब तुम्हारे घर हैं, किसी भी घर में रहो



*****

अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया,


*****

Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega, Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega,
Chor uchkkon ki karo kadr, ki maloom nahi,
Kaun, kab, kon si sarkaar me aa jayega


Rahat Indori  Shayari In urdu


Nayi hawaaon ki sohbat bigaad deti hai, Kabtooro ko khuli chat bigaad deti hai,
Aur jo jurm karte hain itne bure nahi hote, Saza na deke adaalat bigaad deti hai.

*****

Teri har baat mohabbat mai gawara karke, Dil ke bazaar mai baithe hai khasaara karke,
Muntazir hoon ke sitaaro ki zara aankh lage, Chaand ko chat pe bula lunga ishara karke.


*****



Rahat Indori  Shayari In HIndi images
Rahat Indori  Shayari In HIndi images


अभी गनीमत है सब्र मेरा, अभी लबालब भरा नहीं हूं
वो मुझको मुर्दा समझ रहा है, उसे कहो मैं मरा नहीं हूं.
वो कह रहा है कि कुछ दिनों में मिटा के रख दूंगा नस्ल तेरी
है उसकी आदत डरा रहा है, है मेरी फितरत डरा नहीं हूं


*****


साँसों की सीडियों से उतर आई जिंदगी
बुझते हुए दिए की तरह, जल रहे हैं हम
उम्रों की धुप, जिस्म का दरिया सुखा गयी
हैं हम भी आफताब, मगर ढल रहे हैं हम



*****

Rahat Indori  Shayari on politics

सारी बस्ती क़दमों में है :


सारी बस्ती क़दमों में है, ये भी इक फ़नकारी है
वरना बदन को छोड़ के अपना जो कुछ है सरकारी है

 कालेज के सब लड़के चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिये
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

 फूलों की ख़ुश्बू लूटी है, तितली के पर नोचे हैं
ये रहजन का काम नहीं है, रहबर की मक़्क़ारीहै

 हमने दो सौ साल से घर में तोते पाल के रखे है
मीर तक़ी के शेर सुनाना कौन बड़ी फ़नकारी है

 अब फिरते हैं हम रिश्तों के रंग-बिरंगे ज़ख्म लिये
सबसे हँस कर मिलना-जुलना बहुत बड़ी बीमारी है

 दौलत बाज़ू हिकमत गेसू शोहरत माथा गीबत होंठ
इस औरत से बच कर रहना, ये औरत बाज़ारी है

 कश्ती पर आँच आ जाये तो हाथ कलम करवा देना
लाओ मुझे पतवारें दे दो, मेरी ज़िम्मेदारी है

राहत इंदौरी


Rahat Indori  Shayari घर से ये सोच के निकला हूं कि मर जाना है :



घर से ये सोच के निकला हूं कि मर जाना है
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो
इस मुसाफ़िर को तो रस्ते में ठहर जाना है

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार
मैं यही सोच के ज़िंदा हूं कि मर जाना है

नशा ऐसा था कि मयख़ाने को दुनिया समझा
होश आया तो ख्याल आया कि घर जाना है

मिरे जज़्बे की बड़ी क़द्र है लोगों में मगर
मेरे जज़्बे को मिरे साथ ही मर जाना है

– राहत इंदौरी




Rahat Indori  Shayari


मुझसे पहले वो किसी और की थी, मगर कुछ शायराना चाहिए था
चलो माना ये छोटी बात है, पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था

बुतों से मुझको इजाज़त अगर कभी मिल जाए
तो शहर भर के खुदाओं को बेनक़ाब करूँ..

उस आदमी को बस एक धुन सवार रहती है,
बहुत हसीन है दुनिया इसे खराब करूँ..

मैं करवटों के नए ज़ाविये लिखूं शब भर,
ये इश्क़ है….. तो कहाँ ज़िन्दगी अज़ाब करूँ..

– राहत इंदौरी



Rahat Indori  Shayari In HIndi love


अपने होने का हम इस तरह पता देते थे
ख़ाक मुट्ठी में उठाते थे उड़ा देते थे

बेसमर जान के हम काट चुके हैं जिनको
याद आते हैं के बेचारे हवा देते थे

उसकी महफ़िल में वही सच था वो जो कुछ भी कहे
हम भी गूंगों की तरह हाथ उठा देते थे

अब मेरे हाल पे शर्मिंदा हुये हैं वो बुज़ुर्ग
जो मुझे फूलने-फलने की दुआ देते थे

अब से पहले के जो क़ातिल थे बहुत अच्छे थे
कत्ल से पहले वो पानी तो पिला देते थे

वो हमें कोसता रहता था जमाने भर में
और हम अपना कोई शेर सुना देते थे

घर की तामीर में हम बरसों रहे हैं पागल
रोज दीवार उठाते थे, गिरा देते थे

हम भी अब झूठ की पेशानी को बोसा देंगे
तुम भी सच बोलने वालों के सज़ा देते थे

राहत इंदौरी शायरी 


*****

मैं अपना अज़्म लेके मंज़िलों की सिम्त निकला था,
मशक्क़त हाथ पे रक्खी थी, किस्मत घर पे रक्खी थी….

– राहत इंदौरी

*****

Dr.Rahat Indori  Shayari बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए :

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए
अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए
दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए
मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए
मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए
मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए
मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए
मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए
सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए




Previous
Next Post »